Menu
Swachh Bharat, External Link that opens in a new window
 
मुख्य पृष्ठ >> अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम >>

अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम

श्रम एवं रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार

अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम

बाल श्रम के उन्मूलन पर अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रम एक वैश्विक कार्यक्रम है जिसे दिसंबर, १९९१ में अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन द्वारा प्रवर्तित किया गया। १९९२ में भारत, अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) के साथ समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर द्वारा इसमें शामिल होने वाला प्रथम देश था। ३१.१२.१९९६ को समाप्त होने वाले समझौता ज्ञापन को समय-समय पर विस्तृत किया गया और हाल ही में, उसे ३१ दिसंबर, २००६ तक विस्तृत किया गया है। आई.पी.ई.सी. का दीर्घकालिक उद्देश्य, बाल श्रम के प्रभावी उन्मूलन में योगदान देना है। इसके तत्कालीन उद्देश्य हैं:

  • बाल श्रम के लिए कार्यक्रमों की अभिकल्पना, कार्यान्वयन और मूल्यांकन करने के लिए आईएलओ घटकों और ग़ैर सरकारी संगठनों की क्षमता का संवर्धन;
  • सामुदायिक और राष्ट्रीय स्तर पर हस्तक्षेपों की पहचान करना, जो प्रतिकृति के लिए मॉडल के रूप में काम आ सके; और बाल श्रम के उन्मूलन को हासिल करने के लिए जागरूकता और सामाजिक एकजुटता का निर्माण करना।


बाल श्रम इंडस के लिए प्रासंगिक आईएलओ-सहायता प्राप्त कार्यक्रम।

भारत सरकार और संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के श्रम विभाग (यूएस़डीओएल) द्वारा संयुक्त रूप से वित्त पोषित, २००८ में समाप्त परियोजना ने पाँच राज्यों (मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, और दिल्ली) के २१ जिलों को आवृत किया और एनसीएलपी और सर्व शिक्षा अभियान (एसएसए) के क़रीबी सहयोग से संचालित किया गया। फरवरी २००४ में प्रवर्तित इस परियोजना ने लक्ष्य जिलों में कार्यरत बच्चों की पहचान की, उन्हें ख़तरनाक काम करने से छुड़ाया और उनके पतन को रोकने के लिए उन्हें परिवर्ती स्कूली शिक्षा, पूर्व व्यावसायिक शिक्षा, और सामाजिक समर्थन प्रदान किया। ख़तरनाक काम से छुड़ाए गए किशोरों को व्यावसायिक प्रशिक्षण और आय सृजन के लिए विकल्प प्रदान किया गया। माता-पिता के लिए, परियोजना ने बचत और अधिक आकर्षक आजीविका के विकास को प्रोत्साहित किया। परियोजना ने गुणवत्तापूर्ण स्कूली शिक्षा तक उनकी पहुँच में सुधार द्वारा बच्चों को परिवर्ती से औपचारिक शिक्षा की मुख्य धारा में जोड़ने का प्रयास किया। इसके अलावा, परियोजना में एक निगरानी और ट्रैकिंग प्रणाली, राष्ट्रीय, राज्य, जिला और स्थानीय संस्थाओं के समर्थन और क्षमता निर्माण को शामिल किया गया। परियोजना ने ग़ैर-परियोजना क्षेत्रों में भी पर्याप्त दिलचस्पी पैदा की, जिसने इंडस की परियोजना क्षेत्रों से परे अपनी सफल रणनीतियों की प्रतिकृति को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहित किया।.

आंध्र प्रदेश राज्य-आधारित परियोजना: २००० में, ब्रिटेन के अंतर्राष्ट्रीय विकास विभाग (डीएफआईडी) द्वारा वित्त-पोषित परियोजना को, बाल श्रम की समस्या के निवारण के लिए राज्य एजेंसियों, नियोक्ताओं और मजदूर संगठनों तथा नागरिक समाज को शामिल करते हुए अभिनव मॉडल बनाने के उद्देश्य से प्रवर्तित किया गया था। राज्य सरकार द्वारा पहले से ही इसके शहरी मॉडल की प्रतिकृति बनाई गई है। इस परियोजना ने राज्य सरकार को बाल श्रम उन्मूलन की अपनी कार्य-योजना विकसित करने और राज्य संसाधन केन्द्र को स्थापित और वित्त-पोषित करने के लिए भी सहायता प्रदान की है। परियोजना की अगस्त २००८ की समीक्षा में, डीएफआईडी ने मार्च २००९ तक वित्त-पोषण जारी रखने के लिए सहमति जताई है, जब कार्य-योजना के लिए राज्य सरकार का वित्त-पोषण क्रियाशील होगा।

इतालवी सरकार द्वारा वित्त-पोषित कर्नाटक राज्य-आधारित परियोजना, चामराजनगर और बीदर जिलों में क्रियाशील है और इसमें जागरूकता बढ़ाने और शिक्षा, कौशल प्रशिक्षण और स्व-रोज़गार को बढ़ावा देने के माध्यम से आय जनित करने के घटक शामिल हैं। यह भी सहभागी विकास के लिए स्व-सहायता समूह के दृष्टिकोण और आत्मनिर्भर सामाजिक परिवर्तन को बढ़ावा दे रहा है। बाल श्रम के विकल्प के रूप में और किशोरों को कौशल प्रदान करने के लिए, परियोजना के साझेदार मॉड्यूलर-आधारित व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। एनसीएलपी समितियों सहित मूल और ब्लॉक स्तर के संस्थानों को बाल श्रम का मुकाबला करने के लिए सक्षम बनाया जा रहा है। सामुदायिक बाल श्रम की निगरानी स्थापित की जा रही है। परियोजना, विशेष रूप से कृषि क्षेत्र में बाल श्रम पर नीति उन्मुख अनुसंधान की ओर प्रवृत्त हो रही है। यह कामकाजी परिस्थितियों में सुधार और स्थानीय उद्योगों में बाल श्रम मुक्त उत्पादन (उदाहरण के लिए रेशम) का भी अनुसरण कर रही है।