Menu
मुख्य पृष्ठ >> नीतियाँ >> एचआईवी एड्स पर राष्ट्रीय नीति >>

एचआईवी एड्स पर राष्ट्रीय नीति

एच आई वी एड्स पर राष्ट्रीय नी‎ति

एच आई वी/ एड्स महामारी ‎विकास और सामा‎जिक प्रग‎ति के ‎लिए एक सर्वा‎धिक ‎विकट चुनौती है। इस महामारी से गरीबी और असमानता बढ़ती है और इससे समाज के सर्वा‎धिक वं‎चित लोगों अर्थात् बुजुर्गों, म‎हिलाओं, बच्चों और गरीबों पर भार बढ़ता है। ऐसे देश और संगठन जो समय रहते इसके ‎लिए समु‎चित कार्रवाई नहीं करते उन्हें सार्वज‎निक और नी‎जि उद्यमों पर भारी लागत देकर इसकी कीमत चुकानी पड़ती है क्यों‎कि इससे उत्पादकता में कमी आती है, कुशल और अनुभवी श्र‎मिकों को खोना पड़ता है और कर्मचा‎रियों के इलाज पर व्यय बढ़ता है जैसे-जैसे सार्वज‎निक सेवाओं के ‎लिए मांग बढ़ती है राष्ट्रीय अर्थव्यवस्थाएं, जैसा ‎कि उप-सहारा अफ्रीका जैसे गंभीर रूप से प्रभा‎वित क्षेत्रों में देखा गया है, वस्तुत: प्रत्येक क्षेत्र में प्रभा‎वित हुई है।

अधिक विवरण देखने के लिए डाउनलोड करें (918 KB)